IELTS Course Details in Hindi – IELTS कोर्स की संपूर्ण जानकारी

क्या आप अब्रॉड जाकर पढ़ाई करना चाहते हैं या फिर अब्रॉड में काम करना चाहते हैं? मतलब यह है की अगर आप विदेश में रहकर पढ़ाई या जॉब करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको इंग्लिश भाषा की आवश्यकता होगी। इसके लिए आपको आईईएलटीएस (IELTS) को क्लियर करना होगा। यह पूरे विश्व का सबसे पॉपुलर इंग्लिश भाषा का टेस्ट है।

इसका अंदाज़ आप को इसी बात से हो जाएगा कि हर साल दो मिलियन से भी ज्यादा लोग यह टेस्ट देते हैं। पिछले कुछ वर्ष से यह IELTS टेस्ट इंग्लिश भाषा में कौशल परीक्षण का लीडर बना हुआ है। इसीलिए बहुत से संगठन इस टेस्ट में प्राप्त अंको को इंग्लिश के प्रमाण के रूप में स्वीकार करते है।

ऐसे में आपको भी इस कोर्स के बारे में जानकारी ले लेनी चाहिए। इसलिए आज के इस आर्टिकल IELTS Course Details in Hindi में आपको आईईएलटीएस (IELTS) से जुड़ी पूरी जरूरी जानकारी देने वाले हैं।

IELTS Course Details in Hindi
IELTS Course Details in Hindi

IELTS Course Details in Hindi

तो चलिए शुरू करते हैं और स्कोर से जुड़े सारे जरूरी सवालों के जवाब एक एक करके जानते हैं IELTS का फुल फॉर्म इंटरनैश्नल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम है।

माइल्स टेस्ट किस पर्पस के लिए डिजाइन किया गया है? तो ऐसे उम्मीदवारों की इंग्लिश भाषा की योग्यता को जांचने के लिए डिजाइन किया गया है जो इस वर्ग के लिए ऐसे देश में जाना चाहते हैं जहाँ पर बातचीत के लिए इंग्लिश भाषा इस्तेमाल की जाती है। अगर आप संयुक्त राज्य अमेरिका की यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेना चाहते हैं तो इसके लिए IELTS होना जरूरी है। ऐसा ही कई देशों की यूनिवर्सिटीज़ पर भी लागू होता है।

आईलेट्स करने से क्या होता है?

जब आपको अब्रॉड में पढ़ाई करनी हो, जिसमें आइडीपी (IDP) इंडिया अब्रॉड संस्थानों में दाखिला लेने में आपकी मदद करेगा। यहाँ पर आपको यह भी पता होना चाहिए की ये आइडीपी क्या है? आइडीपी एजुकेशन लिमिटेड वर्ड की लीड अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा संगठन में से एक है जो ऑस्ट्रेलिया, यूं एस ए, कनाडा, न्यूज़ीलैण्ड और यूके में छात्र को प्लेसमेंट ऑफर करती हैं।

दूसरा है, जब आपको अब्रॉड में जॉब करनी हो, तीसरा है या फिर जब आप किसी इंग्लिश स्पीकिंग देश में एकीकृत होने का प्लैन कर रहे हो। ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, न्यूज़ीलैण्ड यू एस ए और यूनाइटेड किंगडम अप्रवासन का होना जरूरी है।

IELTS की विशेषता की बात करें तो अंग्रेजी भाषा प्रवीणता टेस्ट में सबसे विश्वसनीय नाम है। इसे जेक स्पोट्स ने डेवलप किया है। और टेस्ट देने वाले उम्मीदवार के लिए ये सबसे सुविधाजनक साबित होता है की यह टेस्ट साल मे 48 दिन उपल्ब्ध होता है।

यानी एक महीने में 4 दिन इस टेस्ट स्कोर को ज्यादातर ऑर्गनाइजेशन्स एक्सेप्ट करती है और इस टेस्ट में आमने सामने बातचीत होती है। इसीलिए इसे सभी टेस्ट में सिर्फ एरेस्ट टेस्ट माना जाता है।

IELTS Ke Liye Qualification in Hindi

IELTS कोर्स के लिए मिनिमम योग्यता की बात की जाए तो इसके लिए उम्र 16 साल है और इसके साथ ही आवेदक के पास वैलिड पासपोर्ट भी होना जरूरी है। इन दोनों में से एक भी शर्त पूरी नहीं होने पर आप यह टेस्ट नहीं दे सकते।
तथा यह टेस्ट कितनी बार दिया जा सकता है? तो आवेदक यह परीक्षा कितनी भी बार दे सकता है और अगर बात की जाए इस टेस्ट की वैलिडिटी की तो इस टेस्ट का स्कोर दो वर्ष तक वैध रहता है।

IELTS में रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

  • अब आगे बात करते हैं कि टेस्ट का रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया क्या है?
    इस टेस्ट की रजिस्ट्रेशन के लिए आप ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन मोड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। या अपने नज़दीकी आइडीपी औल्स ब्रांच पर जाकर भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते है।
  • यानी ऑनलाइन और ऑफलाइन तरीके से रजिस्ट्रेशन करवा सकते है। रेजिस्टर्ड फॉर टेस्ट विकल्प का चयन करने के बाद आपको कंप्यूटर पर आधारित या पेपर बेस्ट टेस्ट में से एक विकल्प का चयन करना होता है।
  • आप ऑनलाइन और ऑफलाइन परीक्षा के माध्यम में से कोई भी एक विकल्प का चयन कर सकते हैं। इसके बाद ऐकैडेमिक और जनरल ट्रेनिंग दो मॉड्यूल्स के विकल्प आपको मिलते हैं।
  • ऐकैडमिक टेस्ट उन उम्मीदवार के लिए होता है, जो उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए अब्रॉड जाना चाहते हैं। और ऐसे प्रोफेशनल्स जो अब्रॉड में कार्य के अवसर के लिए जाना चाहते हैं।
  • जबकि जनरल ट्रेनिंग ऐसे उम्मीदवार के लिए होता है जो ऐसी देश में बसना चाहते हैं, जहाँ पर इंग्लिश भाषा बोली जाती है, यानी यह मॉड्यूल अधिकतर आप्रवासन मामलों में लागू किया जाता है।
  • टेस्ट मॉड्यूल सलेक्ट करने के बाद आपको टेस्ट देने का स्थान का चयन करना होगा जिसके बाद आपको उपलब्ध तारीख और समय का विकल्प मिल जाएगा।
  • जिसे कन्फर्म करने के बाद आपको बाकी की सारी डिटेल्स फील करने के अलावा पासपोर्ट की कलर कॉपी भी अपलोड करनी होगी।

IELTS Ki Fees Kitni Hai

IELTS की फीस की चर्चा करे तो टेस्ट देने से पहले एक ही बार आपको फीस देनी होती हैं फार्म भरने के बाद आपको टेस्ट फी फीस का भुगतान करना होगा जो लगभग ₹14,000 होती है।

IELTS की परीक्षा कैसे होती है?

IELTS की परीक्षा पैटर्न कैसा होता है? इस बारे में बात करें तो IELTS परीक्षा में चार अनुभाग होते हैं रीडिंग, राइटिंग, लिसनिंग और स्पीकिंग। इस एग्ज़ैम की ड्यूरेशन 2:45 होती है। फाइल्स के दो स्वरूप यानी ऐकैडेमिक और जनरल ट्रेनिंग में लिसनिंग और स्पीकिंग अनुभाग समान ही रहते हैं, जबकि रीडिंग और राइटिंग में अलग अलग अनुभाग होते हैं।

और स्पीकिंग अनुभाग में उम्मीदवार की परीक्षा सिर्फ आमने सामने बातचीत से ही होती है। इस सेक्शन के तीन प्रकार होते हैं और हर पार्ट रिकॉर्ड किया जाता है। इस अनुभाग की कुल ड्यूरेशन 11-14 मिनट होती है। लिसनिंग अनुभाग में उम्मीदवार को नेटिव इंग्लिश स्पीकर्स की चार रिकॉर्डिंग सुनकर 40 प्रश्न के उत्तर देने होते है।

इस अनुभाग की ड्यूरेशन 30 मिनट होती हैं। रीडिंग अनुभाग में ऐकैडेमिक और जनरल ट्रेनिंग के उम्मीदवार से अलग अलग प्रश्न पूछे जाते हैं और दोनों ही पैटर्न में उम्मीदवार को 60 मिनट में 40 सवालों का जवाब देना होता है।

राइटिंग अनुभाग भी ऐकैडेमिक और जनरल ट्रेनिंग कैंडिडेट्स के लिए अलग अलग होता है। इस अनुभाग में 60 मिनट में दो राइटिंग टास्क अटेम्प्ट करने जरूरी होते हैं।

Must Read :- BCA Course Details in Hindi

आईलेट्स में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

IELTS टेस्ट ख़ास तौर पर अंग्रेज़ी भाषा के लिए बनाया गया है आईलेट्स में केवल एक ही विषय इंग्लिश होता है इसके स्कोर के द्वारा किसी व्यक्ति की इंग्लिश भाषा की प्रदर्शन और ज्ञान को समझा जा सकता है।

IELTS का बैंड स्कोर कितना होता है?

अगर इसकी बात करें तो कुल मिलाकर बैंड स्कोर एक से नौ तक रहता है, जिसमें नौ बैंड स्कोर का मतलब एक्स्पर्ट यू सर होता है। आठ का मतलब वेरी गुड यू सर होता है और एक तक आते आते ये इसको डाउन होता जाता है। यानी दो का मतलब इंटरमिटेंट यू सर और एक का मतलब नॉन यू सर होता है। ओवरऑल बैन्ड स्कोर में का मिनिमम स्कोर 6 पॉइन्ट वन रहता है। अलग अलग देशों के अनुसार स्कोर में भी परिर्वतन होते रहते हैं।

IELTS का रिज़ल्ट कितने टाइम में आता है?

तो इसका रिज़ल्ट टेस्ट की 13 दिन के अंदर आ जाता है। ये टेस्ट कहाँ से किया जाता है? तो इसका जवाब है कि टेस्ट सेंटर्स पूरे विश्व में मौजूद हैं। फिलहाल इसके 500 सेंटर्स हैं जो 120 देश में फैले हैं। इसकी वेबसाइट पर जाकर आप अपने लिए सेंटर का पता लगा सकते हैं।

इंडिया में अहमदाबाद, हैदराबाद, नवी मुंबई, पुणे, नई दिल्ली, जयपुर, देहरादून, कोलकाता, चंडीगढ़ सहित 50 अन्य शहर में भी आपको यह टेस्ट सेंटर्स मिल जाएंगे।

Conclusion

दोस्तो आशा करता हूं की यह पोस्ट IELTS Course Details in Hindi के बारे में समस्त जानकारी मिल गईं होगी जिसमे हमने सभी पॉइंट को सरल भाषा में बताने का प्रयास किया है। अगर यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करे।

Leave a Comment