BSW Course Details in Hindi – BSW कोर्स की संपूर्ण जानकारी

आज के टाइम में ज्यादातर लोगों के पास फुर्सत ही नहीं है, बैठकर बात करने की। लेकिन फिर भी ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो दूसरों की प्रॉब्लम्स को अपनी प्रॉब्लम समझते हैं और उन्हें दूर करना अपना कर्तव्य। ऐसे लोग सोसाइटी को एक बेहतर स्थान बनाना चाहते हैं।

इसीलिए डायरेक्ट और इनडायरेक्ट वेज में लोगों की जिंदगी बेहतर बनाने का इरादा रखते हैं। ऐसे लोग सोशल वर्कर कहलाते हैं, लेकिन अक्सर ऐसा समझा जाता है कि सोशल वर्क का मतलब एनजीओ को पार्ट टाइम ऐक्टिविटी की तरह जौन करना होता है। लेकिन असल में अब सोशल वर्क एक फुलटाइम करियर का विकल्प बन चुका है।

ऐसे में आपको भी सोशल वर्क में कैरिअर बनाने से जुड़ी सारी जरूरी जानकारियां ले लेनी चाहिए। क्या पता आपके लिए यह BSW कोर्स उत्तम कैरियर विकल्प साबित हो जाए इसलिए आज के इस आर्टिकल BSW Course Details in Hindi को पूरा जरूर पढ़े। तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं सोशल वर्कर बनने की प्रक्रिया के बारे में।

BSW Course Details in Hindi
BSW Course Details in Hindi

BSW Course Details in Hindi

BSW कोर्स करने के बाद गवर्नमेंट और प्राइवेट सेक्टर्स में अच्छे अवसर भी मिल सकते है। तो इसका मतलब यह हुआ कि सोसाइटी की हेल्प करने और उसे बेटर प्लेस बनाने के आपके इरादे और जज्बे को आप अपने कैरिअर का रूप भी दे सकते हैं, जिसमें आपकी ग्रोथ भी हो और आप सोसाइटी के लिए अपना योगदान भी खुल कर के दे सके।

अब अगर सोशल वर्क टर्म को करियर के दृष्टिकोण से हम समझे तो सोशल वर्क, सोशल साइंस और यह मानविकी का एक अकादमिक अनुशासन है।

जिसमें मुख्य फोकस सोसाइटी के सोशल संरचना में सुधार करने और कमजोर लोगो की मदद करने पर रहता है। सोशल वर्कर्स व्यक्तिगत परिवार और समुदाय के साथ काम करते हैं और गरीबी बेरोजगारी और एजुकेशन से संबंधित विवाद से डील करते हैं।

BSW कितने साल का होता है?

BSW कोर्स पूरे 3 वर्ष का होता है जिसमे 6 सेमेस्टर होते है। तीन वर्ष की पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद BSW की डिग्री दे दी जाती है।

BSW Course के लिए योग्यता

वैसे तो सोशल वर्कर बनने के लिए किसी डिग्री की जरूरत नहीं होती है लेकिन क्योंकि आप इसे एक ब्राइट कैरियर की तरह देखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 10+2 क्लास किसी रेकग्नाइज़्ड बोर्ड से किसी भी विषय से कम से कम 50% अंको के साथ उत्तीर्ण करनी होगी। उसके बाद आप बैचलर डिग्री कोर्स बीएसडब्ल्यू (BSW) यानी बैचलर ऑफ सोशल वर्क कर सकते हैं।

BSW Course Admission Process in Hindi

BSW कोर्स में दाखिला लेने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं कक्षा किसी भी विषय से 50% अंको के साथ उत्तीर्ण करें।

तीन साल की अवधि के इस कोर्स में मेरिट लिस्ट के बेस पर ऐडमिशन मिलता है।

BSW कोर्स की प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन करे। कुछ राज्यों में यह प्रवेश परीक्षा अलग अलग भी हो सकती है और कुछ राज्यों में RIE CEE Exam के माध्यम से भी होती है।

लेकिन ऐसे उम्मीदवार जो सोशल वर्क सोशियोलॉजी, साइकोलॉजी जैसे संबंधित फील्ड में बैकग्राउंड रखते हैं, उन्हें प्रेस कोर्स में दी जाती है। इस बैचलर डिग्री कोर्स के दौरान अगर आप इंटर्नशिप और स्वयंसेवा का अनुभव भी ले ले तो आपके लिए बहुत लाभदायक साबित होगा। इस कोर्स को फुल टाइम कोर्स की तरह तो किया ही जा सकता है लेकिन आप इसे डिस्टेन्स एजुकेशन कोर्स की तरह भी कर सकते हैं।

BSW Course करने के लिए बेस्ट कॉलेज

अब आपको बता देते है भारत के ऐसे बेहतरीन कॉलेजेस के नाम जहाँ से आप बीएसडब्ल्यू कोर्स कर सकते हैं।

  • एमिटी यूनिवर्सिटी मुंबई
  • हिंदुस्तान कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइन्स कोयम्बटूर
  • सेंट जोसेफ कॉलेज बेंगलुरु मद्रास
  • क्रिश्चियन कॉलेज चेन्नई
  • देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर
  • मद्रास स्कूल ऑफ सोशल वर्क चेन्नई
  • एनईएफ कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी गुवाहाटी
  • इग्नू यानी इंदिरा गाँधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी
  • स्कूल ऑफ डिस्टैन्स एजुकेशन भारती यूनिवर्सिटी कोयम्बटूर

बीएसडब्ल्यू की फीस कितनी है?

अगर आप BSW कोर्स को किसी सरकारी कॉलेज से करते है तो आपको बहुत ही कम फीस लगभग 5000 से लेकर 15,000 तक प्रति वर्ष देनी पड़ सकती है। वहीं किसी प्राइवेट कॉलेज में इस कोर्स की ऐवरेज फीस 10,000 से 50,000 हो सकती है।

BSW Course Karne Ke Fayde (बीएसडब्ल्यू के लाभ)

BSW कोर्स करने वाले छात्र को सोशल वर्क प्रायवेट और सरकारी क्षेत्र में काफ़ी करियर के विकल्प उपलब्ध होते है। कुछ ऐसे भी विकल्प जिनमे केवल BSW के छात्र को ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है। जैसे –

  • वृद्धाश्रम
  • सुधार गृह
  • परामर्श केंद्र
  • उद्योगों का मानव संसाधन विभाग
  • मानवाधिकार एजेंसी
  • आपदा प्रबंधन प्राधिकरण
  • मानसिक स्वास्थ्य देखभाल इकाई

तथा आपको यह जानकर के खुशी होगी कि सोशल वर्क डेवलपमेंट के शीर्ष सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्र में से एक है। और इसलिए सोशल वर्कर की रिक्वायरमेंट तेजी से इन्क्रीज़ होती जा रही है।

सोशल वर्क का एरिया बहुत ही वाइड है, इसलिए सोशल वर्कर्स के अलग अलग प्रकार भी है जैसे की चाइल्ड फैमिली या स्कूल सोशल वर्कर्स, कम्युनिटी सोशल वर्कर्स, हेल्थ केयर सोशल वर्कर्स, मेंटल हेल्थ इन सबस्टैन्स अब यू सोशल वर्कर्स, सोशल वर्कर्स और मिलिटरी सोशल वर्कर्स। इसलिए इस फील्ड में स्पेशलाइजेशन के जरिये एक विशेष क्षेत्र का चयन किया जा सकता है। जिसमे आप अपना योगदान दे सके।

Must Read :- IELTS Course Details in Hindi

Conclusion

तो बताइए क्या आप भी सोसाइटी को बेहतर बनाने में मदद करना चाहते हैं? क्या गरीब और कमजोर लोगों के लिए आप कॉन्सर्ट रखते हैं? और क्या आप बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों की मदद करना चाहते हैं? अगर हाँ, तो आप एक सोशल वर्कर बनने के बारे में सोच सकते हैं और BSW Course को कर सकते हैं।

आशा करता हूं की आपको इस ऑर्टिकल BSW Course Details in Hindi में पूरी जानकारी मिली होंगी इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करे।

Leave a Comment