BSMS Course Details in Hindi – BSMS कोर्स की पूरी जानकारी (2023)

भगवान धन्वंतरि को आर्युवेद का जनक माना जाता है तो वहीं ऋषि अगस्त को सिद्ध चिकित्सा का संस्थापक माना जाता है सिद्ध और आर्युवेद दोनों में काफी समानताएं दिखती है इन दोनों ही पद्धति में दवा के रूप में जड़ी बूटियों का इस्तेमाल होता है।

बहुत लोग आर्युवेद पर विश्वास करने है इसी क्षेत्र में बहुत से छात्र अपना करियर बनानें की सोचते है और आयुर्वेदिक चिकित्सा संबंधी ज्ञान प्राप्त कर अच्छी नौकरी हासिल करना चाहते है।

सिद्ध शब्द का साब्दिक अर्थ ज्ञान प्राप्त करना जो लोग सिद्ध चिकित्सा में पर्याप्त ज्ञान प्राप्त कर लेते है वह इसके विशेषज्ञ बन जाते है। इस कोर्स में करियर बनानें के बहुत अवसर होते है।

इसलिए आज के इस आर्टिकल BSMS Course Details in Hindi के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे की BSMS कोर्स क्या है? अच्छे कॉलेज, एडमिशन कैसे ले आदि।

BSMS Course Details in Hindi
BSMS Course Details in Hindi

BSMS कोर्स क्या है? (BSMS Course Details in Hindi)

BSME का पूरा नाम बैचलर ऑफ सिद्धा मेडिसिन एंड सर्जरी होता है। इस कोर्स में सिद्ध चिकित्सा प्रणाली से संबंधित शिक्षा प्रदान की जाती है तथा यह स्नातक स्तर की डिग्री है।

यह कोर्स आयुष प्रणाली पर आधारित चिकित्सा पद्धति में सबसे प्राचीन सिद्ध प्रणाली पर आधारित है और इस कोर्स में विद्यार्थी को योग, आर्युवेद आदि के बारे में शिक्षा प्रदान की जाती है।

यह कोर्स 5 वर्ष का होता है जिसमे एक वर्ष का इंटर्नशिप करना अनिवार्य है।

BSMS Course करने के लिए योग्यता

इस कोर्स में प्रवेश लेने से पहले योग्यता को समझ लेना बहुत ही जरूरी है BSME कोर्स के लिए निम्नलिखित योग्यता है –

  • 12वीं कक्षा साइंस विषय से फिजिक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी में 50% या इससे अधिक अंको से उत्तीर्ण की हो।
  • बीएसएमएस कोर्स में दाखिला लेने के लिए उम्मीदवार की उम्र मिनिमम 17 वर्ष होनी चाहिए।
  • कुछ कॉलेज में प्रवेश लेने से पहले किसी एक भाषा की माँग की जाती है की उस भाषा का ज्ञान आपको होना चाहिए।
  • BSMS कोर्स में NEET UG परीक्षा के द्वारा विद्यार्थी का चयन होता है तथा काउंसलिंग की प्रक्रिया आयुष मंत्रालय के द्वारा की जाती हैं।

BSMS Course Ki Fees Kitni Hai

BSMS कोर्स को आप सरकारी या प्राईवेट कॉलेज के मध्याम से कर सकते हैं लेकिन सरकारी कॉलेज में प्राइवेट कॉलेज की तुलना में बहुत ही कम फीस लगती है।

सरकारी कॉलेज की ओसतन फीस 10,000 से 12,000 प्रति वर्ष होती हैं वहीं प्रायवेट कॉलेज में 250,000 से 3 लाख या इससे अधिक भी हो सकती है यह कॉलेज पर निर्भर करता है।

BSMS Course कितने साल का होता है?

BSMS अंडर ग्रेजुएट कोर्स है जिनकी अवधि 4.5 वर्ष है और साथ ही 1 साल का इंटरेनशिप भी करना होता है। तथा इस कोर्स को करने में 5 साल लग ही जाते है।

BSMS Course करने के लिए Best College

बीएमएमएस कोर्स को किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज से करने की कोशिश करे इस कोर्स को आप सरकारी या निजी किसी भी कॉलेज से कर सकते हैं यह रहे कुछ कॉलेज –

BSMS Government College

  • गवर्मेंट सिद्धा मेडिकल कॉलेज केरला
  • गवर्मेंट सिद्धा मेडिकल कॉलेज तमिलनाडु
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सिद्धा तमिलनाडु

BSMS Private College

श्री साईंराम सिद्धा मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च सेंटर तमिलनाडू

  • R.V.S सिद्धा मेडिकल कॉलेज तमिलनाडू
  • शिवराज सिद्धा मेडिकल कॉलेज तमिलनाडु
  • नंदा सिद्धा कॉलेज एंड हॉस्पिटल तमिलनाडु
  • आयुष औषधीय विज्ञान विद्यापीठ जोधपुर, राजस्थान
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी, उत्तर प्रदेश

BSMS कोर्स करने के बाद करियर विकल्प

इस कोर्स को पूरा कर लेने के बाद मेडीकल क्षेत्र में करियर के काफ़ी अवसर होते है जिसमे आप अपनी पसंद की मुताबिक़ इन जॉब्स को कर सकते है –

  • सिद्ध प्रैक्टिशनर (सिद्ध डॉक्टर / सिद्ध)
  • चिकित्सा सलाहकार
  • मेडिकल अधिकारी
  • नैदानिक ​​अनुसंधान
  • निजी या सरकारी अस्पताल में सिद्ध डॉक्टर
  • भारत के सिद्ध मेडिकल कॉलेजों में से एक में व्याख्याता
  • अपना खुद का सिद्ध मेडिकल क्लिनिक शुरू करें
  • फार्मा कंपनी में सिद्ध विशेषज्ञ

BSMS Course Salary in Hindi

वैसे तो सैलेरी स्किल्स और अनुभव पर निर्भर करती है लेकिन फिर भी ओसत प्रारंभिक वेतन अपेक्षा: 3 लाख से 10 लाख प्रति वर्ष हो सकता है।

यह भी पढ़ें :- BMRIT Course Details in Hindi – BMRIT कोर्स की संपूर्ण जानकारी (2023)

Conclusion

आशा करता हूं कि इस आर्टिकल BSMS Course Details in Hindi में आपको पूरी जानकारी मिली होंगी अगर आप आयुर्वेद मेडिकल क्षेत्र में करियर बनानें की सोच रहे हैं तो यह कोर्स आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

Leave a Comment